Ahista Ahista – my recording

I have tried to record Amir Meenai’s ghazal Ahista Ahista, hope you like it.

सरकतिी जाए है रुख्ह से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता

निकलता आ रहा है आफताब आहिस्ता आहिस्ता

 

जावां होने लगे जब वो तो हम से कर लिया परदा

हया यकलख्ह्त आईइ और शबाब आहिस्ता आहिस्ता

 

शब-ए-फुर्कत का जागा हूँ फरिश्तों अब तो सोने दो

कभी फ़ुर्सत में कर लेना हिसाब आहिस्ता आहिस्ता

 

हमारे और तुम्हारे प्यार में बस फ़र्क है इतना

इधर तो जल्दी जल्दि है उधर आहिस्ता आहिस्ता

 

वो बेदर्दी से सर काटे “अमीर” और मैं कहु उन से

हुज़ूर आहिस्ता आहिस्ता, जनाब आहिस्ता आहिस्ता

33 Comments
  1. December 5, 2014
    • December 5, 2014
    • December 5, 2014
  2. December 5, 2014
    • December 5, 2014
  3. December 5, 2014
    • December 5, 2014
  4. December 5, 2014
    • December 5, 2014
  5. December 5, 2014
    • December 5, 2014
  6. December 5, 2014
  7. December 5, 2014
    • December 5, 2014
  8. December 5, 2014
    • December 5, 2014
  9. December 5, 2014
    • January 6, 2015
  10. December 5, 2014
    • January 6, 2015
  11. December 8, 2014
    • January 6, 2015
  12. December 10, 2014
    • January 6, 2015
  13. December 10, 2014
    • January 6, 2015
  14. December 18, 2014
    • January 6, 2015
  15. January 7, 2015
    • January 8, 2015
  16. January 21, 2015
  17. January 25, 2015
  18. January 26, 2015

Leave a Reply to Vaisakhi Mishra Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *